स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने आज कहा कि भारत सरकार ने सभी राज्‍यों में जन स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों में 162 प्रेशर स्विंग एब्‍जॉर्शन – पीएसए ऑक्‍सीजन संयंत्रों की स्‍थापना की स्‍वीकृति दी है। इससे चिकित्‍सा सेवा में उपयोग के लिए ऑक्‍सीजन की क्षमता एक सौ 54 मीट्रिक टन से अधिक बढ़ जाएगी।



ट्वीट संदेश में मंत्रालय ने कहा कि केंद्र द्वारा स्‍वीकृत एक सौ 62 ऑक्‍सीजन संयंत्रों में से 33 पहले से ही स्‍थापित किए जा चुके हैं। इस माह के अंत तक 59 संयंत्र और अगले महीने 80 संयंत्र स्‍थापित कर दिए जाएंगे। 33 संयंत्रों में से पांच मध्‍य प्रदेश में, चार हिमाचल प्रदेश, तीन-तीन चंडीगढ़, गुजरात और उत्‍तराखंड में तथा दो-दो बिहार, कर्नाटक और तेलंगाना में स्‍थापित किए गए हैं। आंध्र प्रदेश, छत्‍तीसगढ़, दिल्‍ली, हरियाणा, केरल, महाराष्‍ट्र, पुद्दुचेरी, पंजाब और उत्‍तर प्रदेश में एक-एक  संयंत्र लगाया गया है।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा कि राज्‍यों ने स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों में पीएसए ऑक्‍सीजन संयंत्र स्‍थापित करने की सराहना की। मंत्रालय ने कहा कि राज्‍यों के अनुरोध पर भारत सरकार ने एक सौ 62 संयंत्रों के अलावा 100 अतिरिक्‍त संयंत्रों की स्‍थापना को मंजूरी दे दी है।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बताया कि एक सौ 62 पीएसए ऑक्‍सीजन संयंत्रों पर आने वाला  दो सौ एक करोड़ रूपये का खर्च केंद्र द्वारा वहन किया जाएगा।

Post a Comment

और नया पुराने